• Thu. Sep 16th, 2021

GETREALKHABAR

E News/educational stories, poem and life style/only clean content

जीरो टॉलरेंस की निति ने उग्रवाद की तोड़ी कमर

Byuser

Aug 4, 2021

केंद्र सरकार ने बुधवार को राज्यसभा में यह जानकारी देते हुए कहा कि पीछले तीन साल में जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों व आतंकियों के बीच 400 मुठभेड हुईं जिसमें कुल 630 आतंकवादी मारे गए हैं। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने बुधवार को राज्यसभा में बताया कि मई 2018 से जून 2021 के बीच हुई इन मुठभेड़ों में सुरक्षा बलों के 400 कर्मचारी/अधिकारी भी शहीद हुए हैं।
उन्होंने एक सवाल के लिखित जवाब में कहा कि जम्मू-कश्मीर आतंकवादी हिंसा से प्रभावित रहा है और इस हिंसा को सीमा पार से समर्थन दिया जाता है |

नित्यानंद राय ने कहा कि आतंकवाद को लेकर केंद्र सरकार की जीरो टॉलरेंस की नीति है। हमारी सरकार ने जम्मू कश्मीर में सुरक्षा व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए अनेक उपाय किए हैं।उन्होंने कहा कि राष्ट्र विरोधी तत्वों पर लगाम कसने के लिए कानून लागू किए जा रहे हैं। आतंकियों के खिलाफ सर्च ऑपरेशन चल रहे हैं और इनके मददगारों पर कार्रवाई की जा रही है।

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने बताया कि जून 2021 तक पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर में 664 बार युद्धविराम (सीजफायर) का उल्लंघन किया और सीमा पार से गोलीबारी हुई। मार्च में सीमा पार से गोलीबारी या युद्धविराम उल्लंघन की एक भी घटना नहीं हुई। उन्होंने कहा कि हमारी सेना हर गलत हरकत का जवाब देने में पूरी तरह सक्षम है।
द्रमुक सांसद तिरुचि सिवा के सवाल के जवाब में केंद्रीय ग्रह राज्य मंत्री ने बताया कि 2019 में यूएपीए कानून के तहत जम्मू-कश्मीर में 1948 लोग गिरफ्तार किए गए और 34 लोगों को सजा भी सुनाई गई।

Leave a Reply