• Fri. Sep 24th, 2021

GETREALKHABAR

E News/educational stories, poem and life style/only clean content

पचास के बाद की पछवा हवा भाग -14

Byuser

Mar 26, 2021

अब तक आपने पढ़ा श्याम और रमा दोनों केहर सिंह के गाँव से अपने गाँव में प्रवेश करते हैँ | अब आगे –

रमा के टोकने पर श्याम की तंद्रा जैसे ही टूटती है उसे लगता है जैसे यहाँ आए उसे वर्षों गुजर गए हैं | श्याम रमा को कहता है कि रमा हम घर जाने से पहले सीधे महाजन के घर चलेंगे | रमा कहती है कि पहले सीधे अपने घर चलो लेकिन श्याम कहता है कि रमा तुम तो जानती हो कि मेरे पास पैसे हों और किसी का उधार बाकी हो तो मुझे चैन नहीं आता |रमा बोली ठीक है चलो और ये अच्छा भी है आपकी इसी आदत के कारण कोई आपको कभी भी पैसे देने को मना नहीं करता|

दोनों सीधे महाजन के घर जाते हैं ,रमा तो सीधे सेठानी से मिलने अंदर चली जाती है जबकि श्याम और महाजन बाहर ही कुर्सी डालकर बैठ जाते हैं |

एक दूसरे की कुशल क्षेम पूछने के बाद श्याम महाजन से कहता है कि भाई आपके पैसे लोटने में मुझे काफी बिलंब हो गया है इसके लिए क्षमा चाहता हूँ | आप अभी तक ब्याज के साथ जो भी रकम बनती हो, जोड़कर बता दो मैं अभी चुकता करना चाहता हूँ|

वैसे तो केहर सिंह द्वारा श्याम की सारी कर्जदारी पहले ही चुकता की जा चुकी है ,लेकिन केहर सिंह ने महाजन को पहले ही कह रखा था कि जब श्याम पैसे देने आए तो उससे लेकर रख लेना ताकि उन्हें ये जाहिर ना हो कि मैंने उनकी उधारी चुकाई है | महाजन, जितनी रकम केहर सिंह देकर गए थे, उतनी रकम श्याम से ले लेता है |

रकम लेने के बाद वह राम और हरी द्वारा लिए गए कर्ज के वारे में भी श्याम को सारी जानकारी दे देता है और कहता है की कर्ज के एवज में उन्होंने बहू के गहने भी गिरवीं रख दिए हैं | श्याम को ये सारी जानकारी होने पर बडा  दुख होता है |श्याम गहनों के ऐबज में ली गई रकम के साथ राम और हरी द्वारा लिया गया बाकी कर्ज भी चुकाकर ,बहू के गहने बापिस ले लेता है |श्याम महाजन को कहता है कि वह ये बात राम और हरी पर जाहिर  ना होने दे |

महाजन का सारा  कर्जा चुकाने के बाद श्याम और रमा अपने घर की ओर बढते हैं |श्याम ,राम और हरी द्वारा ,बहू के गहने गिरवीं रखने और खेत अड्वान्स में ठेके पर देकर ब्याज पर पैसे लेने की सारी बात रमा से कहता है | रमा  सुनकर श्याम से कहती है कि इन बच्चों और बहुओं को सही रास्ते पर लाना ही होगा |श्याम अब अपने अंदर ही अंदर एक कठोर फैसला कर लेता है और रमा से कहता है कि तुम ठीक कह रही हो हमें अपने बच्चों को सही राह दिखाने के लिए कठोर होना ही होगा ऐसा निर्णय करके दोनों अपने घर के अंदर प्रवेश करते हैं |(इससे आगे की कहानी अगले भाग में )

 

 

Leave a Reply