• Fri. Sep 24th, 2021

GETREALKHABAR

E News/educational stories, poem and life style/only clean content

पचास के बाद की पछवा हवा भाग -7

Byuser

Mar 16, 2021

अभी तक आपने पढ़ा कि राम और हरी  अपने खेतों को ठेका पर देकर महाजन से मिले पैसों को पूर्बी को देते हुए कहते हैं कि अगली फसल तक इन रुपयों का घर खर्चे में इस तरह इस्तेमाल करना की किसी से उधार न लेने पड़ें लेकिन पूर्बी और माधवी एक महीने के अंदर ही सारे पैसों को  अपनी आदत के अनुसार  फिजूल खर्ची में उड़ा देती हैं अब इससे आगे –

      राम और हरी दोनों भाई कमरे में बैठे हुऐ  हैं जब से पुर्वी और माधवी शादी के बाद इस घर में आईं हैं तब से इनका सारा संसार बस अपनी अपनी पत्नियों के इर्द गिर्द ही बसा हुआ है ,तभी  से वे ज्यादातर समय अपने घर में रहकर ही बिताते हैं आज बाकि तो सभी कुछ सामान्य है लेकिन पूर्वी और माधवी के चेहरे पर चिंता की लकीरें साफ दिखाई दे रही हैं |

      राम अपने भाई की ओर देखते हुए कहता है कि भाई आज इन दोनों बहनों का क्या इरादा है सुबह  के 10 बज रहे हैं चाय नाश्ता का कोई नाम ही नहीं ले रहा है | पुर्वी और माधवी जिस चिंता में चुपचाप  बैठी थीं उसे जाहिर करने की घड़ी आ ही गई यही सोचते हुए दोनों ने एक दूसरे को देखकर इशारा किया कि अब  बताना ही पड़ेगा की घर में बनाने के लिए आज कुछ भी नहीं है  वो नहीं चाहती थीं कि वे पहले इसका जिक्र करें उन्हें डर था की कहीं  राम और हरी उनके ऊपर भड़क ना जाएं लेकिन  इतनी आसानी से वे सारा  दोष अपने  ऊपर भी नहीं आने देना चाहती थीं इसलिए पुर्वी भड़कते हुए कहती है कि तुम दोनों भाइयों को खाने के अलावा भी कुछ सुझाई देता है आजकल इतनी मंहगाई हो गई है कि जो रुपये तुम दोनों ने ये सोचकर दिए थे की इन्ही से पूरे 6 महीने घर का खर्च चलाना  है वे एक  महीने में ही खत्म हो गए ,दोनों पूरे दिन घर में घुसे रहते हैं कहीं  जाकर कोई काम भी नहीं देखते जिससे कुछ आमदनी बढ़ सके पुर्वी से ऐसा सुनकर दोनों भाई अवाक एक दूसरे का मुंह ताकते रह जाते हैं |

           राम और हरी को इतनी नॉलीज़ भी नहीं थी कि वो ये जान  पाते कि इतने पैसे  घर खर्च में नहीं बल्कि इन दोनों ने फिजूल खर्ची में उड़ाये हैं वे सोचते हैं की जरूर मंहगाई इतनी ज्यादा है कि एक महीने के अंदर ही सारे पैसे खर्च हो गए यही सोचते राम, हरी से कहता है की भाई इस समस्या पर हम चारों शाम को बैठकर चर्चा करेंगे तब तक अभी के लिए सामने हलवाई से कुछ खाने को लाते हैं साथ ही किराने बाले से उधार में थोड़ा राशन ले आएंगे ऐसा कहकर दोनों उठ जाते हैं (इससे आगे की कहानी अगले भाग में पढ़ना न भूलें ,कहानी पसंद आ रही हो तो चेंनल को सब्सक्राइब करना न भूलें )

Leave a Reply