• Fri. Sep 24th, 2021

GETREALKHABAR

E News/educational stories, poem and life style/only clean content

पचास के बाद की पछवा हवा भाग 5

Byuser

Mar 14, 2021 ,

 

    अब तक आपने पढ़ा श्याम को केहर सिंह के यहाँ रहते एक महीने से ज्यादा हो गया है श्याम की हालत में सुधार हो रहा है अब आगे –
श्याम शाम को खाना खाने के बाद प्रतिदिन खेतों में घूमने जाता है लेकिन बह नहीं जानता की केहर सिंह की जमीन कौन सी है अब उसमें एक अलग ही उमंग एक तेज महसूस होता है जिसका जिक्र बो रात को सोते समय अपनी पत्नी रमा से करता है वह कहता है रमा जिस दिन हम गाँव से आए थे उस दिन में सोच रहा था कि मैं केहर सिंह के साथ जा तो रहा हूँ जब मेरा शरीर ही जर्जर है तो में किस तरह इनकी मदद कर पाऊँगा ,लेकिन आज मेरे शरीर में जोश है मेरा मन अब खेतों में काम करने को मचल रहा है पता नहीं केहर सिंह कब मुझे खेतों पर लेकर चलेंगे |
      श्याम को सुबह जल्दी जागने की आदत तो पहले से ही थी पहले वह खेतों पर जल्दी चला जाया करता था लेकिन यंहा आने के बाद वह समय से जागने के बाद कमरे में ही ठहल कदमी करता रहता था साथ ही रमा को भी जगा लेता था प्रतिदिन की तरह वह कमरे में टहल कदमी ही कर रहा था की केहर सिंह दरवाजे से श्याम को आवाज लगाते हैं |
श्याम तुरंत ही दरवाजे के बाहर आता है और केहर सिंह की तरफ देखता है केहर सिंह श्याम को कहते हैं श्याम आज तुम्हें में अपने खेतों को दिखाता हूँ दोनों घर से बाहर निकल कर खेतों की ओर चल देते हैं कियोंकि घर से ज्यादा दूरी पर खेत नहीं थे तो केहर सिंह एक निश्चित जगह पर जाकर खड़े होकर कहते हैं की देखो श्याम यंहा से लेकर वो दूर पगडंडी तक ये सारे खेत अपने ही हैं और आज से ये तुम्हारे हवाले हैं तुम्हें अपनी देखभाल में इनमे फसल बुबानी है जो खाद बीज की जरूरत हो बता देना सब मार्केट से आ जाएगा |
       श्याम खेतों पर नजर मारकर सोचता है की इनकी जमीन तो मेरे खेतों से चार गुना ज्यादा है और उपजाऊ भी है इसमें तो एसी फसल होगी की  कि सब देखते रह जाएंगे वह अभी सोच ही रहा था की केहर सिंह ने उसे टोका श्याम क्या सोचने लगे श्याम बोला कुछ नहीं बस यूं ही |केहर सिंह और श्याम काफी देर खेतों पर घूमने के बाद घर आ जाते हैं साथ ही वह खेतों में कौन सी फसल बोनी है ,जुताई के लिए क्या इंतजाम है बीज खाद कितना और किस किस्म का मंगाना है इस पर बिचार बिमर्श कर फाइनल कर लेते हैं , केहर सिंह कहते हैं देखो श्याम अब से खेती का पूरा हिसाब तुम्हें ही रखना है जब फसल आएगी तब बता देना ,श्याम इशारे से गर्दन हिलाकर सहमति प्रकट करता है और बिना समय बरवाद कीये ट्रैक्टर बाले को खेतों में हल चलाने ले जाता है | इससे आगे की कहानी अगले भाग में……

Leave a Reply