• Fri. Sep 24th, 2021

GETREALKHABAR

E News/educational stories, poem and life style/only clean content

पचास के बाद की पछवा हवा भाग -2

Byuser

Mar 9, 2021

अब तक आपने पढ़ा श्याम ने अपने दोनों बेटों की शादी कर ली थी ,दोनों बेटे कॉलेज में जाने पर फेल हो जाते हैं इससे श्याम  की माली  हालत तो बिगड़ ही रही थी उसकी सेहत भी खराब होती जा रही थी लेकिन इससे  बेपरवाह उसके दोनों बेटे घर में बैठे थे अब आगे –

एक कहावत है जब घर के हालात खराब हों तब आसपास के लोग उसका फायदा जरूर उठाते हैं इसी का फायदा उठाते हुए पड़ोस की ऑरतों ने श्याम की दोनों बहुओं के कान भरने शुरू कर दिए यंहा अब दोनों बहुओं के नाम से आपका परिचय कराते  हैं राम की पत्नी का नाम पुर्बी और हरी की पत्नी का नाम माधवी है दोनों ही अच्छे घर से हैं पुर्बी और माधवी को अब उनके खर्चों पर अंकुश लगाना पड़ रहा है जो उनके स्वभाव के बिल्कुल उलट है इसी का फायदा पड़ोसी औरतें लगा रही हैं वे कहती हैं जब बहुओं का खर्च नहीं उठा सकते थे तो इन बेचारियों का जीवन कियों बिगाड़ा और बाहर बालों की ये बातें  पुर्बी और माधवी को सहद की तरह लगती बहीं उनकी सास उन्हें घर गृहस्थि की बातें बताती तो उन्हें वे पिघले हुए शीशे की तरह लगती इधर श्याम और अधिक बीमार होने लगा  जिससे उसे वार वार डॉक्टर के जाना पड़ रहा था और दूसरों से कर्जा भी लेना पड़ रहा था अब स्थति ये आ गई की जमीन बेच कर ही कर्ज उतारा जाए इसके अलावा उसके पास कोई साधन ही नहीं था  एक दिन मौका देखकर  श्याम अपनी पत्नी रमा से कहता है की जिस जमीन को मेरे पुरखों ने बचाकर रखा अब उसी जमीन को मुझे बेचना पड़ेगा कर्ज और उसका व्याज दिन दिन बढ़ता जा रहा है इन दोनों की ये बातें पुर्बी सुन लेती है और अपनी बहन से कहती है दोनों मिलकर अपने पतियों से कहती है की आपके पिताजी जमीन बेच रहे हैं उन्हें उकसाती है की वे पिताजी से बात करें कि उन्होंने इतना कर्ज केसे कर लिया जो जमीन बेचने की नौबत आ गई राम और हरी दोनों अपनी -अपनी पत्नीयों  की बातों में आकार अपने पिताजी को कहते हैं कि लोग अपनी ऑलादों के लिए क्या क्या नहीं करते और एक आप हैं जो हमारे पुरखों की जमीन  भी बेचकर खा रहे हो माता पिता पर शायरियां Maa Baap Shayari in Hindi images | Good thoughts quotes, Father quotes in hindi, Devotional quotes|श्याम दोनों की बातें सुनकर बहुत परेशान होता है जिन बच्चों को वह अपनी जान  से भी ज्यादा प्यार करता है वही आज उसे मदद करने की वजाय व्यंग कर रहे हैं मानो ये सारा  कर्ज उसने अपने एशो आराम के लिए लिया हो लेकिन आज वो मौन है कुछ कहने का उचित समय नहीं जानकार वहाँ से उठकर  चलता  है तो सामने दीवार पर लगी  इस तसबीर को

Parents Quotes in Hindi | माता पिता पर 111+ अनमोल कथनदेखता है जो उसके बड़े बेटे राम ने क्लास 10 मे दाखिला लेने से पहले बनाई थी तब उसने रमा अपनी पत्नी से कहा था कि देख रमा ,राम अपने माता  पिता को कितना मान देता है पर आज वही तसबीर जैसे  उसे कह रही हो की बक्त के साथ रिस्ते बदलने में देर नहीं होती |

इधर ये सारी जानकारी पुर्बी और माधवी के माता पिता को लगती है वो दोनों श्याम के यंहा आते हैं अब इससे आगे की कहानी का इंतजार कीजिए जो आपको भाग -3 में पढ़ने को मिलेगा ……………..

 

Leave a Reply