• Fri. Sep 24th, 2021

GETREALKHABAR

E News/educational stories, poem and life style/only clean content

सफर के आखरी शिखर पर अकेले ,मंजूर नहीं ..भाग-3

Byuser

Apr 9, 2021 , ,

अभी तक आपने पढ़ा  हरी को कई अन्य क्षात्र/क्षात्राओं के साथ प्रधानाचार्य के कमरे में बुलाया जाता है जहां  म्यूजिक टीचर और शहर के नामी ग्रामी स्कूल के  प्रधानाचार्य भी बैठे हैं अब इससे आगे-

कुछ ही देर में  प्रधानाचार्य सभी की तरफ मुखातिव होते हुए कहते हैं की बच्चों आज आप सभी को यहाँ  विशेष उद्देश्य से बुलाया गया है दरअसल अपने शहर के सबसे टॉप स्कूल के ट्रस्टी  स्वर्गीय  जयन्तीलाल जी जिन्होंने  शिक्षा के क्षेत्र में अपना बहुमूल्य योगदान दिया  था ,उनकी 50 बीं जयंती के उपलक्ष में स्कूल एक भव्य सांस्कृतिक कार्यक्रम करने जा रहा है |ये हमारा सौभाग्य है कि स्कूल के प्रधानाचार्य स्वयं यंहा आकर हमें इस प्रोग्राम में शामिल होने के लिए  आग्रह लेकर आए हैं |

इस प्रोग्राम को देखने सुनने बहुत ही अतिविशिष्ठ मेहमान आएंगे इसलिए हमें अभी से कुछ ऐसे प्रोग्राम पर काम  शुरू कर देना है जिससे हमारे स्कूल की ख्याति तो बढ़े ही साथ ही इस प्रोग्राम में हिस्सा लेने वाले क्षात्र/क्षात्राओं  के कार्य की सभी स्कूलों में चर्चा हो |अभी तक चुप बैठे म्यूजिक टीचर ने कहा सर ,जैसा आप चाहते हैं वैसा  ही होगा ,अभी प्रोग्राम में 15 दिन शेष हैं तब तक हमारी टीम ऐसा प्रोग्राम तैयार कर लेगी जिसे देखकर सब मुग्ध हुए बिना नहीं रह सकेंगे | अब आप मुझे इजाजत दीजिए हम अभी से तैयारी शुरू कर देते हैं |प्रधानाचार्य  म्यूजिक टीचर को ये हिदायत  देना ना भूले की प्रोग्राम के दौरान इनकी पढ़ाई का नुकसान ना हो ,अगर जरूरत पड़े तो इनकी एक्स्ट्रा क्लास लगवाकर पढ़ाई पूरी करवा दी जाए | म्यूजिक टीचर ने कहा ठीक है सर  इनकी पढ़ाई का भी पूरा ध्यान रखा जाएगा |

टीचर उन सभी बच्चों को लेकर सेंट्रल हॉल की तरफ बढ़ जाते हैं  ये हॉल स्कूल में जब भी कोई फ़ंक्शन होता है तो इसकी तैयारी के लिए या किसी विशेष मीटिंग  करनी हो तो उपयोग में लाया जाता रहा है  |यूं  तो स्कूल में आए दिन प्रोग्राम होते ही रहते हैं  लेकिन इस वार हरी को पहली वार इस स्कूल में किसी प्रोग्राम में शामिल होने का अबसर मिल रहा है |

म्यूजिक टीचर सभी बच्चों को बैठने की कहकर उनके सामने पड़ी एक चेयर पर बैठ जाते हैं और बच्चों से पूछते हैं की बच्चों बताओ कौन सा प्रोग्राम तैयार किया जाये |सभी बच्चे अपनी अपनी इच्छानुसार बताते हैंकि ये प्रोग्राम ठीक रहेगा  लेकिन हरी अभी तक चुप है उसे चुप देखकर म्यूजिक टीचर उससे कहते हैं देखो हरी मैंने तुम्हें यंहा  इस प्रोग्राम में शामिल  होने को इसलिए बुलाया है की तुम्हारी आबाज में एक अलग ही कशिश है जिस दिन हिन्दी के पीरियड में मैंने तुम्हारी आबाज सुनी थी तभी मैंने बिचार कर लिया था की आगे जब भी कोई प्रोग्राम होगा तुम्हें उसमें जरूर शामिल कराऊँगा ,क्या तुम इसमें भाग लेने को तैयार हो ?क्या तुम्हारे माइन्ड में कोई अलग आइडिया है जिससे प्रधानाचार्य महोदय खुश हो सकें |

हरी टीचर के सवालों को सुनकर थोड़ी देर मौन होकर कहता है सर मेरे दिमाग में एक आइडिया है तो ,पर उस पर काम कर पायेंगे या नहीं |टीचर उसे कहते हैं कि पहले ये बताओ कि तुम क्या सोच रहे हो तो हरी कहता है की सर हम जो भी ईवेंट करें वो पहले न तो किसी ने किया हो ना ही कहीं पढ़ा हो|

समाज में  आज बाल अपराध दिन प्रतिदिन बढ़ रहे हैं हमें इसी के ऊपर एक नाटक तैयार करना चाहिए यदि सब मेरी बात से सहमत हैं तो सभी अलग अलग नाटक के डायलॉग लिखें और फिर बैठकर उनमें से जो अच्छे हों उन्हें नाटक में डाल दिया जाए इसके बाद उनके पात्रों का चयन कर लिया जाए |सभी को हरी की बात उचित  लगी और सब कल अपना नाटक लिखकर लेकर आएंगे की सहमति के बाद अपनी क्लास में चले जाते हैं |(आगे की कहानी अगले भाग में )

 

 

Leave a Reply