• Fri. Sep 24th, 2021

GETREALKHABAR

E News/educational stories, poem and life style/only clean content

सफर के आखरी शिखर पर अकेले ,मंजूर नहीं ..भाग-2

Byuser

Apr 8, 2021

हरी को इस स्कूल में एडमिशन लिए लगभग 15 दिन हो चुके हैं ,इन  15 दिनों में शुरुआती 05 दिन तो कुछ मनचले लड़कों द्वारा उसे तरह- तरह से सताया गया |हरी ने अपने  सहज आचरण से इन 15 दिनों में ही कुछ अच्छे दोस्त बना लिए, इस दौरान उसने अपनी स्कूल ड्रेस भी  बनबा ली है जिसके कारण अब उसके लिबास का मजाक बनाया जाना भी लगभग बंद हो चुका है |हरी पढ़ने में तेज है विशेष कर मैथ और साइंस में उसका कोई जबाब नहीं इसी के कारण अब क्लास के लगभग बच्चे उससे दोस्ती करना चाहते हैं |

हरी जहां अपनी पढ़ाई पर ध्यान देता है वहीं बाकी गतिविधियों में भी उसकी रुचि सामान्य से अधिक है |विशेषकर कल्चरल प्रोग्राम में वह बढचड़ कर हिस्सा लेता रहा है अपने गाँव  के स्कूल में तो उसकी इस खूबी को सब अच्छे से जानते थे |स्कूल के वार्षिक फंक्शन में उसका अभिनय देखकर  गाँव के बुजुर्ग उसे कहते बेटा हरी तू बडा  होकर जरूर एक फिल्मी स्टार बनेगा |

एक दिन की बात है की हरी की क्लास के हिन्दी के टीचर छुट्टी पर होते हैं तो म्यूजिक टीचर को उनकी क्लास अटेन्ड  करने भेज दिया जाता है |म्यूजिक टीचर को हिन्दी के सब्जेक्ट का बिलकुल भी ज्ञान नहीं था इसलिए उन्होंने क्लास के सभी बच्चों पर नजर घुमाई तो देखा की बाकी तो  सभी बच्चे जाने पहचाने हैं  क्योंकि वे पिछली क्लासों से प्रमोट होकर आए हुए हैं एक हरी ही उनको नया स्टूडेंट लगा तो उन्होंने उसे ही इशारे से खड़े होने को कहा |

हरी अपनी जगह खड़ा हो जाता है तो टीचर उसे  हिन्दी की किताब से एक प्रसंग पढ़ने को कहते हैं |शुरू की एक दो लाईन तो हरी  धीरे से पढता  है ,लेकिन मास्टर जी के थोड़ा जोर से पढ़ने  के आदेश पर वह उस प्रसंग को इस तरह पढ़ता  है, की सभी मंत्रमुग्ध  हो जाते हैं |

पीरियड खत्म होने पर म्यूजिक टीचर चले जाते हैं ,तो सारे बच्चे हरी को कहते हैं यार तेरी आबाज में तो जादू है हमें तो यूं लग रहा था कि हम थियेटर में बैठे हैं  इसी तरह  दिन महीने निकलते जा रहे थे |हरी के साथ रहने बालों की संख्या भी बढ़ती जा रही थी संकोची स्वभाव होने के कारण  अभी तक अपनी क्लास  से अलग बच्चों से उसकी पहचान नाम मात्र ही थी |

आज हरी के लिए एक विशेष दिन  होने वाला है प्रत्येक दिन की तरह क्लास में पढ़ाई चल रही है तभी  पीऑन हरी की क्लास में  पीरियड ले रहे टीचर को  धीरे  से कुछ कहता है ,मास्टर जी गरदन हिलाते हुए हरी को आबाज लगाते हैं और पीऑन के साथ जाने का इशारा करते हैं | हरी  पीऑन के साथ कुछ मन में आशंका लिए आगे बढ़ जाता है इस समय वो बस यही सोचे जा रहा है की यह पीऑन प्रधानाचार्य के ऑफिस का है ,पता नहीं मुझे क्यों बुलाया है |

पीऑन हरी को सीधे प्रधानाचार्य के ऑफिस के  अंदर ले जाता है, हरी अंदर जाकर प्रधानाचार्य को अभिवादन कर  खडा हो  जाता है |  प्रधानाचार्य की रिवॉलविंग चेयर के सामने शहर के सबसे बड़े स्कूल के प्रधानाचार्य बैठे हैं ,उनके साथ बाली चेयर पर म्यूजिक टीचर और जहां  वह खडा  है वहाँ उसके जैसे कई और क्षात्र खड़े हैं |इन सभी के एकत्र होने का क्या कारण है? जानने के लिए अगला भाग पढ़ना ना भूलें |

Leave a Reply