• Thu. Sep 16th, 2021

GETREALKHABAR

E News/educational stories, poem and life style/only clean content

जदयू अध्यक्ष चुने गए राजीव रंजन

Byuser

Jul 31, 2021

राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह को जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए चुना गया है । राजनीतिक विशेष्ज्ञ मानते हैं कि ललन को अध्यक्ष पद पर चुनकर जदयू ने संकेत दिया है कि वह केवल अति पिछड़े या पिछड़े वर्ग की पार्टी नहीं। समय के साथ साथ वह सशक्त सवर्ण नेतृत्व से भी कोई परेशानी नहीं है | ललन सिंह पूर्व में जदयू के प्रदेश अध्यक्ष भी रह चुके हैं। नीतीश कुमार के सर्वाधिक विश्वासपात्र लोगों में शुमार ललन की विशेषता रही है कि वह पार्टी प्रबंधन में महारत रखते हैं। इस वक्त जब जाति आधारित जनगणना को लेकर जदयू के लोग मुखर हैं तो ऐसे समय में सवर्ण को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए जाने के भी विशेष मायने हैं। यह भी संदेश साफ दिया गया कि जदयू केवल अति पिछड़े या फिर दलित-महादलित पर केंद्रित दल नहीं है।
सवर्ण समाज के किसी व्यक्ति को पहली बार जदयू का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया गया है। जिस समय केंद्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार की चर्चा चल रही थी उस समय यह बात चर्चा में थी कि ललन सिंह भी मंत्री बनेंगे, पर केवल आरसीपी सिंह को ही केंद्र में मंत्री बनाया गया। ललन सिंह को इसके बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाकर यह भी जताने का प्रयास किया गया है कि उनका पार्टी में बहुत ही खास महत्व है। विधानसभा चुनाव के समय सीटों के तालमेल के समय भी उनकी सक्रियता विशेष अधिकार के साथ थी।
ललन सिंह को अध्यक्ष बनाए जाने के बाद अब यह तय है कि लोकसभा में जदयू संसदीय दल के नेता पद से उन्हें इस्तीफा देना होगा। पूर्व में आरसीपी सिंह जब जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने थे तब उन्हें राज्यसभा में जदयू संसदीय दल के नेता का पद छोड़ना पड़ा था। ऐसे में अब तय है कि किसी अन्य सांसद को यह जगह मिलेगी। यहां भी कास्ट समीकरण साफ-साफ दिखाई देना तय है। नीतीश कुमार ने यह सिद्धांत को भी सही तरीके से पुन: स्थापित कर दिया कि उनके दल में एक व्यक्ति एक पद का सिद्धांत हर हाल में जारी रहेगा |

Leave a Reply