• Fri. Sep 24th, 2021

GETREALKHABAR

E News/educational stories, poem and life style/only clean content

प्राइवेट कंपनियों के कम्पटीसन में आने से पेट्रोल डीजल के कम होंगे रेट

Byuser

Aug 24, 2021

आने वाले समय में देश में प्राइवेट कंपनियों के कम्पटीसन में आने से पेट्रोल डीजल के रेट कम होने की सम्भावना है मीडिया रिपोर्ट्स में जो बात सामने आ रही है उसके अनुसार, आने वाले समय में कुछ निजी कंपनियों को पेट्रोल-डीजल बेचने की परमिशन मिलने की सम्भावना है |
संभावित कंपनियां जिनको पेट्रोल-डीजल बेचने की अनुमति मिल सकती है उनमें आईएमसी, ऑनसाइट एनर्जी, असम गैस कंपनी, एमके एग्रोटेक, आरबीएमएल सॉल्यूशंस इंडिया, मानस एग्रो इंडस्ट्रीज और इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड शामिल हैं. इन कंपनियों के आने के बाद पेट्रोलियम मार्केटिंग बिजनेस में कुल 14 कंपनियां हो जाएंगी ,जिससे कम्पटीसन बढ़ेगा |
पेट्रोलियम मार्केटिंग बिजनेस में फिलहाल सरकारी कंपनियों का कब्जा है | देश में 90 फीसदी पेट्रोल पंप का कारोबार सरकारी कंपनियों के द्वारा ही किया जाता है | ऐसे में अब प्राइवेट कंपनियों के आने से बाजार में कंपीटिशन बढ़ेगा और इससे तेल के दामों में भी कमी आएगी |
ग्राहकों को होगा फायदा: निजि कंपनियों के इस सेक्टर में आने से ग्राहकों को काफी फायदा होने की उम्मीद है इन कंपनियों के आ जाने से ज्यादा पेट्रोल पंप होंगे साथ ही ग्रामीण इलाकों में भी पेट्रेाल पंप खुलेंगे, जिससे सर्विस भी बेहतर होगी | दूसरा कई लोगों का मानना है कि प्राइवेट सेक्टर के शामिल होने से अपनी बिक्री बढ़ाने के लिए कंपनियां कई तरह के ऑफर और तेल के रेटों में कमी भी कर सकतीं हैं |
किसको मिल सकता है लाइसेंस : -पेट्रोल पंप को लेकर जारी सरकार के निर्देशों के अनुसार, नए लाइसेंस ऐसी कंपनियों को मिलेंगे, जिनकी न्यूनतम कमाई 250 करोड़ रुपये से ज्यादा है | ऐसी कंपनियों को 2 हजार करोड़ रुपये का निवेश करना होगा, इसके साथ ही 5 साल के अंदर कम से कम सौ पेट्रोल पंप भी खोलने होंगे |

Leave a Reply