• Fri. Sep 24th, 2021

GETREALKHABAR

E News/educational stories, poem and life style/only clean content

मुख्य समाचार

Byuser

Sep 12, 2021

गुजरात सी एम के इस्तीफा देने की बाद , बिधायक दलकी बैठक :- गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। पार्टी ने नया नेता चुनने के लिए विधायक दल की बैठक बुलाई है।
नरेंद्र सिंह तोमर और प्रल्हाद जोशी सुबह अहमदाबाद जाएंगे, बीजेपी विधायक दल की बैठक में पर्यवेक्षक होंगे |
नए CM की रेस में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया, केंद्रीय मंत्री पुरुषोत्तम रुपाला, गुजरात के उप-मुख्यमंत्री नितिन पटेल और गुजरात भाजपा के अध्यक्ष सीआर पाटील के नाम शामिल हैं।

नीट परीक्षा ;-आज देशभर में होगी नीट की परीक्षा, उम्मीदवारों को एक घंटे पहले पहुंचना होगा केंद्र पर |

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच विदेश व रक्षामंत्रियों की टू प्लस टू वार्ता :- भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच विदेश व रक्षामंत्रियों की टू प्लस टू वार्ता में अफगानिस्तान की स्थिति चर्चा के केंद्र में रही। बैठक में साझा चिंता जाहिर की गई कि अफगानिस्तान दोबारा आतंकियों के लिए सुरक्षित पनाहगाह नहीं बनना चाहिए। अफगानिस्तान के मुद्दे पर भारत और ऑस्ट्रेलिया एक-दूसरे के साथ रणनीतिक सहयोग बनाए रखने पर भी सहमत हुए हैं।

भारत-ऑस्ट्रेलिया ने क्वाड की आलोचना को खारिज किया ;-
भारत और ऑस्ट्रेलिया ने उन आलोचनाओं को खारिज कर दिया कि क्वाड एक प्रकार का एशियाई नाटो है। विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा कि यह जरूरी है कि वास्तविकता को गलत तरीके से प्रस्तुत नहीं किया जाए। विदेश मंत्री जयशंकर और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अपने ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष मारिसे पायने और पीटर डटन के साथ यहां ‘टू प्लस टू’ वार्ता की। क्वाड समूह को एशिया के नाटो के रूप में वर्णित करने के बारे में पूछे जाने पर जयशंकर ने कहा, हम खुद को क्वाड कहते हैं। क्वाड एक ऐसा मंच है, जहां चार देश अपने लाभ और दुनिया के लाभ के लिए सहयोग करने आए हैं।

बंगाल उपचुनावः- भवानीपुर से बीजेपी उम्मीदवार प्रियंका टिबरेवाल आज से शुरू करेंगी चुनाव प्रचार |


भारत का रुख साफ वह तालिवान को नहीं देगा मान्यता :-
अफगानिस्तान में तालिबान की सरकार बनने के तीन दिन बाद भारत ने अपना रुख साफ कर दिया है। भारत ने इस सरकार को मान्यता देने से इनकार कर दिया है। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने साफ कर दिया कि वो तालिबान की नई सरकार को एक व्यवस्था से ज्यादा कुछ नहीं मानते हैं।

Leave a Reply