• Fri. Oct 22nd, 2021

GETREALKHABAR

E News/educational stories, poem and life style/only clean content

कहानी

  • Home
  • ओ मेरे गधे अब तेरा ही सहारा ,तू ही पेट भरेगा हमारा

ओ मेरे गधे अब तेरा ही सहारा ,तू ही पेट भरेगा हमारा

एक गाँव में एक साधुओं की मण्डली ठहरी हुई थी | गाँव के लोग साधुओं का सम्मान करने वाले थे | साधुओं की खूब आवभगत हो रही थी किसी के…

कार्तिक स्नान -जैसी आस्था बैसा फल

बहुत, समय पहले की बात है कि एक गांव में एक परिवार रहता था परिवार में कुल मिलाकर तीन जने थे | माँ बेटा और बहू | माँ की गंगा…

जो खड्डा खोदेगा वही गिरेगा

एक राजा और वजीर भेष बदलकर घूमने निकले | एक जगह उन्होंने देखा एक लड़का गढ्ढा खोद रहा था | बजीर ने उस लड़के से पूछा कि तू यंहा गढ्ढा…

कौड़ीधज घोड़े का दाव

पाटन के राजा सिद्धराज सोलंकी के राज्य में कालिया और खापरिया नाम के दो नामी चोर थे | दोनों आपस में जिगरी यार भी थे | दिवाली के दिन दोनों…

हीरे की परख तो जौहरी ही कर सकै है

एक वार एक चित्रकार एक चित्र बनाकर राजा के दरवार में ले गया | राजा ने उसे पचास रूपये दे दिए | चित्रकार ने राजा से पूछा महाराज आपने इस…

कटोरा पेच

एक गांव में गुरूजी अपने शिष्यों को कुश्ती के दाव पेच सिखाया करते थे | गावं का सरपंच 10 रूपये शिष्य के हिसाब से गुरूजी को पैसे दिया करता ,इस…

मित्रता दिवस कहानी एक यादों के झरोके से

आज मित्रता दिवस है | पहला मैत्री दिवस 1958 में 30 जुलाई को विश्व मैत्री धर्मयुद्ध द्वारा प्रस्ताबित किया गया था | 30 जुलाई को आधिकारिक तौर पर मैत्री दिवस…

कंजूस का धन

एक सेठ के पास बहुत धन था लेकिन वह कंजूस इतना था कि अपने पेट को भी भरपेट भोजन नहीं देता था | उसकी कंजूसी से उसके परिवार के सभी…

एक अनार तीन बीमार

एक ब्राह्मण के एक लड़की और एक लड़का था | लड़की जब शादी योग्य हुई तो ब्राह्मण ने अपनी पत्नी और बेटे से कहा कि पुत्री के लिए योग्य वर…

अब तो आठों पहर रोना ही रोना है