• Fri. Sep 24th, 2021

GETREALKHABAR

E News/educational stories, poem and life style/only clean content

सफर के आखरी शिखर पर अकेले ,मंजूर नहीं ..भाग-6

Byuser

Apr 13, 2021

अभी तक आपने पढ़ा कि हरी ने नाटक के सभी किरदारों के डायलॉग पढ़कर सुनाए तो मास्टरजी ही नहीं बल्कि उसके साथी बच्चों ने भी खड़े होकर तालियों के साथ उसकी हौसला अफजाई की अब इससे आगे –

मास्टरजी और बच्चों की तालियों  के बजने के अंदाज ने हरी को अहसास कर दिया  कि उसकी स्क्रिप्ट बिल्कुल सही लिखी गई है ,उसकी मेहनत सफल हो गई और सच भी है सच्चे मन से किया गया कार्य सफल होता ही है |मास्टरजी हरी से कहते है की हरी तुम्हारे अंदर लिखने और उसी अंदाज में उन डायलॉग को बोलने की  एक बिलक्षण प्रतिभा है जो तुम्हें काफी आगे तक ले जाएगी |

मास्टरजी हरी की उसी कॉपी को लेकर सीधे प्रधानाचार्य के कमरे में चले जाते हैं और बच्चों को उनकी क्लासों में भेज देते हैं |मास्टरजी बड़ी  वारीकी से हरी की लिखी स्क्रिप्ट को प्रधानाचार्य  के समक्ष पेश करते हुए कहते है की हरी द्वारा लिखा  गया ये नाटक अतुलनीय है अगर में ये कहूँ इससे अच्छा नाटक कोई लेखक  भी नहीं  लिख सकता है तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी  प्रधानाचार्य सब कुछ सुनने के  बाद सहमति में गरदन हिलाते हुये  कहते हैं वाकई अद्भुत है ,अब जरूरत इस बात की है की जितना सुंदर ये लिखा गया है उतना ही सुंदर इसका मंचन होना चाहिए | किसी भी सामान /भेषभूषा की आवश्यकता हो तो ऑफिस से फंड जारी करवा लो |

मास्टरजी ठीक है सर कहकर बाहर निकल जाते हैं और गेट के बाहर खड़े पीऑन को उन सभी बच्चों को सेंट्रल हौल में फिर से बुलाने के लिए भेज देते हैं और इसके साथ ही खुद भी सेंट्रल हॉल की तरफ बढ़ जाते हैं |कुछ ही देर में सभी बच्चे एक -एक कर सेंट्रल हॉल में एकत्र हो जाते हैं |

अब सबसे बड़ी जिम्मेदारी किरदार तय करने की थी की अमुख किरदार का रोल अमुख स्टूडेंट करेगा |इस नाटक में तीन अहम किरदार और बाकी नॉर्मल हैं जो सबसे मुख्य किरदार है उसे हरी के लिए मास्टरजी सुरक्षित कर देते हैं |एक स्त्री का मुख्य किरदार है उस पर दो लड़कियां हैं जिनके नाम रुमा और मानवी हैं में कंपटीशन होगा और वाकी एक अहम किरदार एक छोटे बच्चे का है उस पर भी कोई कंपटीशन नहीं है क्योंकि उनके बीच सिर्फ एक ही कम एज का बच्चा है | इस तरह बाकी के सभी किरदार भी मास्टरजी द्वारा तय कर दिए जाते हैं |

रुमा और मानवी को उनके किरदार पर अभिनय करने के लिए कहा जाता है दोनों का अभिनय करने के दो दौर के बाद डिसाइड किया जाता है कि इस किरदार को रुमा करेगी दरअसल नाटक के अनुसार रुमा ने हरी की पत्नि का रोल करना है |सभी पात्रों के चयन के बाद, पहले दिन सभी को अपने अपने किरदारों के डायलॉग याद करके आना है कहकर  क्लास में भेज दिया जाता है | बाकी  बचे हुए बच्चों में से सिर्फ  मानवी को लगातार रुमा के साथ आने और वही डायलॉग याद करने को कहकर  उनकी क्लास में भेज दिया जाता है|

इस तरह सिर्फ दो दिनों में ही नाटक की स्क्रिप्ट से लेकर उनके किरदारों का चयन कर लिया जाता है |अगले दिन नाटक में भाग ले रहे  सभी स्टूडेंट  को स्कूल समय से 1 घंटे पहले पहुँचने की हिदायत दे दी जाती है जिससे उनका अभिनय भी चलता रहे और पढ़ाई भी मिस ना हो |(अब इससे आगे की कहानी अगले भाग में )

 

Leave a Reply